यूपी में दलित लड़की के साथ हुई गैंगरेप की घटना पर फूटा कंगना रनोट का गुस्सा, बोलीं- इन बलात्कारियों को सार्वजनिक रूप से गोली मार दो

यूपी के हाथरस में दलित लड़की के साथ हुई गैंगरेप की वारदात और उसकी मौत के बाद देशभर में जबरदस्त गुस्सा देखा जा रहा है। एक्ट्रेस कंगना रनोट ने भी इस मामले पर एक ट्वीट करते हुए अपना प्रतिक्रिया व्यक्त की है। उन्होंने दोषियों को सार्वजनिक रूप से गोली मारने की मांग की है।

अपने ट्वीट में कंगना ने लिखा, 'इन बलात्कारियों को सार्वजनिक रूप से गोली मार दो। इन सामूहिक दुष्कर्मों का क्या समाधान है, जिनकी संख्या में हर साल बढ़ोतरी हो रही है? इस देश के लिए कितना दुखद और शर्मनाक दिन है। हम शर्मिंदा हैं क्योंकि हम अपनी बेटियों की सुरक्षा में विफल रहे हैं। #RIPManishaValmiki'

जिंदगी की जंग हार गई पीड़िता

14 सितंबर को हुई इस वारदात के बाद करीब 15 दिनों तक पीड़िता अस्पताल में जिंदगी की जंग लड़ती रही, लेकिन मंगलवार तड़के उसने दिल्ली के सफदरगंज अस्पताल में दम तोड़ दिया। दरिंदों ने गैंगरेप के बाद पीड़िता की जीभ काट दी थी, रीढ़ की हड्डी तोड़ दी थी और दुपट्टे से उसका गला घोंट दिया था। वे उसे मरा जानकर बाजरे के खेत में छोड़ गए थे।

14 सितंबर को क्या हुआ था?

परिवार के मुताबिक, उस दिन सुबह-सुबह पीड़िता, उसका बड़ा भाई और मां गांव के जंगल में घास काटने गए थे। जब घास की एक गठरी बंध गई तो बड़ा भाई उसे लेकर घर चला आया। मां और बेटी खेत में अकेले रह गए। मां आगे घास काट रही थी। बेटी पीछे कुछ दूर उसे इकट्ठा कर रही थी। इसी दौरान चारों अभियुक्तों ने पीड़िता के गले में पड़े दुपट्टे से उसे बाजरे के खेत में खींच कर उसके साथ गैंगरेप किया।

ट्विटर पर ट्रेंड कर रहा #RIPManishaValmiki

इस घटना के विरोध में सोशल मीडिया पर भी लोगों का गुस्सा देखा जा रहा है और मंगलवार सुबह से ही ट्विटर पर #RIPManishaValmiki, CBI4HathrasGangRape, #JusticeForManishaValmiki जैसे हैशटैग ट्रेंड करते रहे।

## ## ## ## ##

वारदात की पूरी खबर- दलित लड़की से हाथरस में गैंगरेप : उसकी रीढ़ की हड्डी तोड़ी, जीभ काट दी, 12 दिन सिर्फ इशारे से बताती रही, रात 3 बजे जिंदगी से जंग हार गई वो बेटी



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Kangana Ranaut writes in her twit, Shoot these rapists publicly, what is the solution to these gang rapes that are growing in numbers every year? What a sad and shameful day for this country.


from Dainik Bhaskar https://ift.tt/2EMRhzO
https://ift.tt/36gFOne

Comments